Amritsar Train Accident – चश्मदीदों ने कहा- हर तरफ बिखरी थीं लाशें, इन्हें देखकर बंटवारे का मंजर याद आ गया

Amritsar Train Accident

शहर के जोड़ा बाजार में रावण दहन देख रहे लोग शुक्रवार को दो ट्रेनों की चपेट में आ गए। चश्मदीदों ने कहा कि हादसे के बाद रेल पटरियों के 150 मीटर के दायरे में लाशें बिखरी नजर आ रही थीं। इसे देखकर 1947 के बंटवारे का मंजर याद आ गया।

 

बेटे को ढूंढते हुए पहुंचा, ट्रैक पर मिली लाश

एक प्रत्यक्षदर्शी ने कहा- रेलवे ट्रैक के आसपास कोई बैरिकेडिंग नहीं की गई थी। हादसे के मंजर को देखा नहीं जा सकता। ट्रैक के आसपास खून से लथपथ लाशें बिखरीं हैं।
एक चश्मदीद ने यह भी बताया कि पटरियों से महज 200 फीट की दूरी पर पुतला जलाया जा रहा था। कार्यक्रम बिना इजाजत हो रहा था।
एक और चश्मदीद ने कहा कि हर तरफ से लोगों के रोने-बिलखने की आवाज आ रही थी। इस हादसे के बाद लोग अपने परिजनों को तलाश रहे थे।

हादसे के बाद का मंजर।
एक चश्मदीद ने कहा- 7 बजकर 10 मिनट पर पुतलों का दहन किया गया। अगर समय रहते यह सब हुआ होता तो हादसा बच सकता था। एक तो रोशनी होती और दूसरा उस वक्त ट्रेन का टाइम भी नहीं था।

एक ने कहा- बेटा दशहरा देखने आया था। ढूंढते हुए यहां पहुंचा तो ट्रैक पर उसकी लाश पड़ी थी।

उधर, लोको पायलट का कहना है कि रावण का पुतला दहन होने की वजह से आसपास इतना धुआं था कि उसे ट्रैक पर खड़ी भीड़ नजर ही नहीं आई।

हादसे के बाद बच्चे को संभालती महिला।

नवजोत कौर से लोग नाराज

एक प्रत्यक्षदर्शी ने कहा कि यहां कार्यक्रम बिना इजाजत के करवाया जा रहा था। इसमें कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर भी बतौर चीफ गेस्ट मौजूद थीं। लेकिन, वे हादसा होते ही यहां से चली गईं। हालांकि, नवजोत कौर का कहना है कि वे हादसे से 15 मिनट पहले ही वहां से चली गई थीं।

एक अन्य चश्मदीद ने कहा कि दशहरे के कार्यक्रम को देखते हुए प्रशासन को रेलवे क्रॉसिंग के पास अलार्म की व्यवस्था करनी चाहिए थी। इसके अलावा ट्रेन को रोकने या गति धीमी रखने के इंतजाम होने चाहिए थे।

लोगों ने कहा- मदद को नहीं आया प्रशासन

चश्मदीदों ने कहा कि मृतक संख्या 200 तक भी जा सकती है। हादसे के बाद प्रशासन तुरंत मदद को नहीं अाया। जिन मांओं ने अपने बच्चे खोए हैं, उनका क्या होगा? एक अन्य प्रत्यक्षदर्शी ने कहा कि हादसे में कई बच्चे और महिलाएं मारे गए।

Also Read – Delhi Police Officer’s Son Rohit Tomar Beats A Girl. Video Is Viral

अस्पताल पहुंचे सांसद परिजनों के गुस्से की वजह से लौटे

गुरु नानक देव अस्पताल में दाखिल घायलों का हालचाल जानने सांसद गुरजीत सिंह औजला पहुंचे। घायल परिजनों ने आक्रोश की वजह से उन्हें बैरंग वापस लौटना पड़ा।

प्रधानमंत्री-गृहमंत्री ने हादसे पर दुख जताया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा- अमृतसर हादसे से गहरा दुख पहुंचा। ये दिल दहला देने वाला हादसा है। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि हादसे में जिन लोगों ने अपनों को खोया है, उनका दुख शब्दों में नहीं बयां किया जा सकता है।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *